up college

यूपी काॅलेज के शिक्षक पढ़ाते हैं ट्युशन

यूपी काॅलेज के शिक्षक पढ़ाते हैं ट्युशन
नहीं पढ़ने पर नौवीं व ग्यारहवीं में देते हैं फेल करने की धमकी
तनख्वाह के बाद भी लाखों रुपए अवैध प्रति माह कमाते हैं मास्टर
जिला विद्यालय निरीक्षक एवं प्रधानाचार्य लापरवाह, उन्हें कुछ पता भी नहीं

वाराणसी। शहर संवाददाता


वाराणसी। कभी अपनी अच्छी पढ़ाई के लिए मशहूर उदय प्रताप इण्टर काॅलेज अब अपने भ्रष्टाचार व वहसी बच्चों के निर्माण के लिए जाना जाने लगा है। वहाँ के लोभी शिक्षक मोटी राजकीय कमाई के बाद भी ट्युशन पढ़ाकर बच्चों को लूट रहे हैं। वह भी जबरन। जो छात्र उनके यहाँ ट्युशन नहीं पढ़ते वह उनसे चिढ़ते हैं। यहाँ तक कि ऐसे बच्चों को नौवी व ग्यारहवीं मे फेल करने की धमकी देते हैं। कइयों को फेल भी करा देते हैं। इसी भय में सैकडों की संख्या में छात्र उनके यहाँ पढ़ने जाते हैं और मोटी फीस लगाकर बड़ी कमाई करते हैं। कुछ विद्यार्थियों एवं विश्वस्त सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार ये शिक्षक लाखों की अपनी सरकारी तनख्वाह के बावजूद भी राजकीय कानून का उल्लंघन करते हुए लाखों रुपए महीना अतिरिक्त व अवैध कमाते हैं। कुछ विद्यार्थियों के अनुसार काॅलेज में पाठ्यक्रम पूरा न हो पाने के कारण टीचर्स के यहाँ पढ़ना ही पड़ता है। ये शिक्षक चाहें तो काॅलेज में ही पाठ्यक्रम पूर्ण करा सकते हैं। लेकिन अब काॅलेज राजनीति व प्रभावशाली लोगों का अड्डा बन गया है। यहाँ शिक्षा कम आवारगी ज्यादा मिलती है। क्षेत्रीय नागरिकों का कहना है कि इसी विद्याालय से देश को हर क्षेत्र के लिए महान विभूतियाँ मिली हैं। किन्तु इस समय राजर्षि जी का सपना टूट रहा है। काॅलेज का वह पुराना चरित्र मिट चुका है।

घटना के प्रसंग पर जब काॅलेज के प्रधनाचार्य से पूछा गया तो उन्होंने टीचर्स के ट्युशन नहीं पढ़ाने की बात कही, वहीं जब जिला विद्यालय निरीक्षक विजय प्रताप सिंह से पूछा गया तो उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर किया और कठोर प्रशासनिक कार्यवाही करने का आश्वासन दिया। हांलाकि यह भारत देश है यहाँ सभी लोग सब कुछ जानते हैं लेकिन कोई कुछ देखता नहीं।


Leave a Reply

Your email address will not be published.