अनिवार्य प्रश्न
ARTO Rajeshwar Yadav, who was working in Ballia for two years in the famous ambulance case related to Mukhtar, suspended

मुख्तार से जुड़े चर्चित एंबुलेंस प्रकरण में बलिया में दो साल से कार्यरत रहे एआरटीओ राजेश्वर यादव निलंबित


अनिवार्य प्रश्न। संवाद


बलिया। देश प्रसिद्ध व चर्चित बहुजन समाज पार्टी के विधायक व माफिया मुख्तार अंसारी के सहयोगियों पर लगातार गाज गिरती जा रही है। मुख्तार से जुड़े एक चर्चित एंबुलेंस प्रकरण में बलिया में दो साल से कार्यरत रहे एआरटीओ राजेश्वर यादव को निलंबित कर दिया गया है। शासन द्वारा अंसारी के एंबुलेंस प्रकरण में एआरटीओ राजेश्वर यादव को दोषी पाये जाने के कारण निलंबित किया गया है और उन्हें मुख्यालय से संबद्ध कर दिया गया है।

सूत्रों ने बताया है कि जनपद बाराबंकी में जिस समय मुख्तार से जुड़ी एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन हुआ था उस समय राजेश्वर बाराबंकी में ही तैनात थे। एआरटीओ राजेश्वर यादव पर की गई इस निलंबन की कार्यवाही से बलिया में परिवहन विभाग के अधिकारियों में दहसत का माहौल व्याप्त हो गया है। हांलाकि आगे की जांच में बाराबंकी के कई लोगों के फंसने की संभावना साफ-साफ दिख रही है। जिससे कि पूरे एआरटीओ दफ्तर में हड़कंप मचा हुआ है।

नाम न प्रकाशित करने का निवेदन करते हुए एआरटीओ दफ्तर के पास एक दुकान चलाने वाले ने अनिवार्य प्रश्न प्रतिनिधि से बताया है कि सभी कर्मचारी आज इस समय सभी को पत्रकार ही समझ रहे हैं और किसी से बात करने से भाग रहे हैं। उसने आगे कहा कि यहां भ्रटाचार तो होता रहा है लेकिन बलिया में कार्यरत एआरटीओ की छवि अब तक साफ रही थी। लेकिन इस घटना से यह भी साफ हो गया है कि वह मुख्तार अंसारी के अप्रत्यक्ष सहयोगी रहे हैं।

हांलाकि और कितनों की नौकरी जाएगी अभी कहा नहीं जा सकता। बाराबंकी में और भी कई परिवहन कर्मियों का जुड़ाव इस प्रकरण से हो सकता है और उसकी जांच शासन द्वारा की जा रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *