अनिवार्य प्रश्न
Tele-law mobile app launched

टेली-लॉ मोबाइल ऐप लॉन्च


अनिवार्य प्रश्न। संवाद।


नई दिल्ली। केेन्द्रीय कानून और न्याय मंत्री किरेन रिजिजू ने नागरिकों के लिए टेली-लॉ मोबाइल ऐप लॉन्च किया। उन्होंने टेली-लॉ अग्रिम पंक्ति के पदाधिकारियों को भी सम्मानित किया। इस अवसर पर विधि एवं न्याय राज्य मंत्री प्रो. एस.पी. सिंह बघेल भी उपस्थित थे।

केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री श्री रिजिजू ने अपने संदेश में कहा कि नए भारत का विकास प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया के विजन से हुआ है। डिजिटल इंडिया स्कीम के तहत ई-इंटरफेस प्लेटफॉर्म टेली लॉ का विकास किया गया। यह देश में पूर्व-मुकदमा तंत्र को सुदृढ़ करने का प्लेटफॉर्म है। उन्होंने कहा कि इस प्लेटफॉर्म का उद्देश्य सबका प्रयास, सबका न्याय हासिल करना है।

जन-समूह को संबोधित करते हुए, केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री रिजिजू ने भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्षों के समारोह के एक भाग के रूप में सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को शामिल करते हुए 75,000 ग्राम पंचायतों में टेली-लॉ के विस्तार की घोषणा की। उन्होंने अधिवक्ताओं से टेली-लॉ आंदोलन में शामिल होने और कानूनी सहायता सेवाओं के लिए बुनियादी कदम के रूप में कानूनी मार्गदर्शन और परामर्श प्रदान करने की भी अपील की। उन्होंने अग्रिमपंक्ति के सभी पदाधिकारियों के टीम प्रयास की सराहना की, जिसने टेली-लॉ को 12 लाख से अधिक लाभार्थियों की संख्या को पार करने में सक्षम बनाया है और समाज के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति के लिए भी न्याय और कानूनी सहायता सेवा उपलब्ध कराने के लिए सबका प्रयास, सबको न्याय के लोकाचार को प्रेरित किया। उन्होंने प्रतिभागियों को नागरिक केंद्रित न्याय प्रदायगी तंत्र को इष्टतम बनाने के लिए नागरिक टेली-लॉ मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए भी प्रोत्साहित किया।

टेली-लॉ रू रीचिंग द अनरीच्ड ई-इंटरफेस प्लेटफॉर्म को 2017 में न्याय विभाग द्वारा देश में पूर्व-मुकदमा तंत्र को सुदृढ़ करने के लिए लॉन्च किया गया था। यह 633 जिलों में 50,000 ग्राम पंचायतों में 51,434 सामान्य सेवा केंद्रों में प्रचालनगत है। टेली-लॉ लाभार्थी को पैनल अधिवक्ता से जोड़ने के लिए प्रौद्योगिकी (अर्थात टेली-वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सुविधाएं) का लाभ उठाता है ताकि उनकी शिकायत के शीघ्र निवारण के लिए कानूनी सलाह और परामर्श प्राप्त किया जा सके।

नागरिकों के टेली-लॉ मोबाइल ऐप का उद्देश्य अपनी पहुंच और दायरे को बढ़ाने के माध्यम से संवर्धित कानूनी सूचना तक पहुंच को विस्तारित करना है और यह आम लोगों को उनकी समस्या की पहचान करने में सक्षम बनाता है। यह लाभार्थियों को सीधे पैनल वकील या ऐसे लाभार्थियों के मामले में, जो पढ़ने या लिखने में असमर्थ हैं, पैरा लीगल वालंटियर्स, ग्राम स्तर के उद्यमियों की सहायता से अपनी हकदारियों और अधिकारों का दावा करने के लिए उन्हें विवाद निवारण के उचित प्लेटफॉर्म से जोड़ता है। यह परामर्श कानूनी सेवा प्राधिकरण की धारा 12 के तहत निशुल्क कानूनी सहायता प्राप्त करने के हकदार लोगों के लिए निशुल्क उपलब्ध है, जबकि अन्य व्यक्ति 30 रुपये प्रति परामर्श यह लाभ उठा सकते हैं।

इस कार्यक्रम में देश के विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने वाले पैरा लीगल वालंटियर्स, ग्राम स्तर के उद्यमियों, पैनल वकीलों और राज्य समन्वयकों सहित अग्रिम पंक्ति के 124 पदाधिकारियों का भी सम्मान किया गया। टेली-लॉ का लाभ देश के दूर-दराज और भीतरी क्षेत्रों तक पहुंचाने में सहायक अग्रिम पंक्ति के ये कार्यकर्ता टेली-लॉ कार्यक्रम के ष्वाहकष् हैं। पिछले छह महीने (अप्रैल-सितंबर 2021) में छह जोन (उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम, मध्य और पूर्वाेत्तर जोन) के इन स्वयंसेवकों के प्रयासों का विभिन्न मापदंडों पर मूल्यांकन किया गया था, जिसमें टेली-लॉ के तहत पंजीकृत लाभार्थियों की संख्या, कानूनी सलाह और परामर्श की आवश्यकता पर जनता को शिक्षित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले नवोन्मेषी टूल्स; उन लाभार्थियों की संख्या जिन्हें सलाह प्रदान की गई है; संचालित किए गए संघटन तथा सामुदायिक जागरूकता सत्रों की संख्या और सरकार की अन्य कल्याणकारी योजनाओं के साथ नेटवर्किंग और अंतर-विभागीय संयोजन के प्रयास शामिल हैं। माननीय मंत्रियों द्वारा प्रत्येक श्रेणी के स्टार कलाकारों को पुरस्कार प्रदान किए गए। अग्रिम पंक्ति के इन सभी पदाधिकारियों को प्रेरित करने के लिए, न्याय विभाग मासिक आधार पर उनके प्रयास को सम्मानित करता है।

इस अवसर पर टेली-लॉ सेवा के तहत व्यापक प्रसार और नागरिकों की भागीदारी को अधिकतम करने के लिए विभिन्न सूचना, शिक्षा और संचार (आईईसी) प्रिंट और डिजिटल दोनों सामग्री जारी की गई। इस अवसर पर ष्फुट प्रिंट्स ऑफ टेली-लॉष् शीर्षक वाली फिल्म रिलीज़ की गई, जिसमें 2017 से टेली-लॉ के जीवंत विकास और इसकी यात्रा पर प्रकाश डाला गया। एक अन्य टेली-लॉ फिल्म में ब्लैक एंड व्हाइट स्टोरीबोर्ड पर टेली-लॉ की मुख्य विशेषताओं का उल्लेख किया गया, जिसे दूरदर्शन द्वारा न्याय विभाग के लिए तैयार किया गया और इस अवसर पर इसे रिलीज किया गया। इस अवसर पर टेली-लॉ पुस्तिका का विमोचन भी किया गया, जिसमें 2017 से अंतिम चार वर्षों में टेली-लॉ कार्यक्रम का संदर्भ उपलब्ध कराया गया था। ष्फीमेल पैनल लॉयर होल्डिंग अ मोबाइल फोनष् द्वारा चित्रित टेली-लॉ मैस्कॉट का अनावरण भी दोनों मंत्रियों द्वारा किया गया, क्योंकि सरकार महिलाओं को सशक्त बनाने और राष्ट्र निर्माण के लिए उनकी प्रतिभा का उपयोग करने का प्रयास करती है। मैस्कॉट ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि लाभार्थियों की बड़ी संख्या और संरक्षकों यानी पैनल वकीलों, पैरा लीगल स्वयंसेवकों और ग्राम स्तर के उद्यमियों की उल्लेखनीय संख्या महिलाओं की है। इस दौरान टेली-लॉ पर एक नया लोगो भी जारी किया गया। यह लोगो न्याय विभाग का एक इन-हाउस प्रोडक्शन है, हालांकि इस संबंध में 1 सितंबर, 2021 से 30 सितंबर, 2021 तक आयोजित एक प्रतियोगिता के माध्यम से अग्रिम पंक्ति के पदाधिकारियों से विचार आमंत्रित किए गए थे। नारा लेखन और जिंगल प्रतियोगिता के विजेताओं का भी अभिनंदन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *