अनिवार्य प्रश्न

देश के योद्धाओं ने किया कोरोना योद्धाओं को सलाम


अनिवार्य प्रश्न । संवाद


आगे भी करेंगे लड़ाई में समर्थन
जारी रखने कोरोना से लड़ने का संकल्प
वायुसेना और नौसेना के हेलीकॉप्टर कोविड रोगियों का इलाज करने वाले अस्पतालों पर वर्षायेंगे फूल- पंखुड़ियां
सेना के बैंड कोविड अस्पताल जायेंगे और आभार में अस्पतालों के बाहर बजाएंगे धुन


दिल्ली। रक्षा मंत्रालय द्वारा एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई जिसमें सीडीएस जनरल बिपिन रावत, सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवाने, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह, वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने मीडिया को संबोधित किया। संबोधन में कोरोना योद्धाओं के प्रयासों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए सैन्य प्रमुखों ने आने वाले दिनों में अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं के लिए समर्थन जारी रखने का संकल्प लिया।

सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने कहा कि 24 मार्च 2020 से 03 मई 2020 तक की अवधि उस स्थिति को दर्शाती है जब प्रत्येक भारतीय से संयम बरतने का अनुरोध किया गया था। अधिकांश भारतीयों ने लॉकडाउन के आह्वान को स्वीकार करते हुए घर से ही काम किया। हालांकि, कोरोना योद्धाओं के रूप में काम करने वाले कुछ मुट्ठी भर भारतीय हैं, जो जोखिम में हैं और अभी भी प्रतिदिन अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि बिजली और पानी जैसी बुनियादी सुविधाएं सभी तक पहुंचें, सड़कें साफ-सुथरी रहें, खाद्य वस्तुएं उपलब्ध रहें, प्रत्येक मरीज को चिकित्सा सेवा की सुविधा मिले, कानून और व्यवस्था बनी रहे और विदेशों में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाया जाये और उनकी देखभाल की जाये। डॉक्टर, नर्स, स्वच्छता कर्मचारी, पुलिसकर्मियों और मीडियाकर्मियों जैसे कोरोना योद्धाओं ने सुनिश्चित किया है कि भारत इस महामारी से मुकाबला करना जारी रखेगा। हम इन योद्धाओं और उनके प्रयासों को सलाम करते हैं और उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करते हैं। हम उनके बलिदान और कोविड-19 के खिलाफ लडाई में उनके प्रयासों के प्रति आभारी हैं। हम ये बात अच्छी तरह जानते हैं कि वे खतरों का सामना कर रहे हैं।

सीडीएस ने कहा कि महामारी का सामना करने और इसे हराने के लिए भारत सरकार के व्यापक प्रयासों और नागरिकों द्वारा सभी निर्धारित निर्देशों का कड़ाई से पालन के सराहनीय संयम से यह सुनिश्चित हुआ है कि देश ‘ग्राफ को कम करने’ के अपने रास्ते पर है और विश्व के अधिकांश देशों की तुलना में बहुत बेहतर स्थिति में है।

सीडीएस ने यह भी आश्वासन दिया कि सशस्त्र बल दो सिद्धांतों के आधार पर कोविड -19 से मुकाबला कर रहे हैंरू बल संरक्षण और नागरिक प्राधिकारों को सहायता प्रदान करना। एक प्रश्न का उत्तर देते हुए, उन्होंने कहा कि अग्रिम पंक्ति का एक भी सैनिक, नौसैनिक या वायुसैनिक प्रभावित नहीं हुआ है और सशस्त्र बल सभी चुनौतियों के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। वायु सेना प्रमुख ने एक प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि कोविड का एक भी मामला सामने नहीं आया है और इस स्थिति को बनाये रखने के लिए हम पूरी तरह से तैयार हैं।

सीडीएस ने आगे कहा कि कोरोना योद्धाओं के साथ अग्रिम पंक्ति के सैनिकों की एकजुटता दिखाने के लिए 03 मई 20 को सशस्त्र बलों द्वारा कुछ कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। रविवार को सशस्त्र बल कई कार्यक्रम आयोजित करेंगे जैसे वायु सेना के फाइटर और ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट श्रीनगर से तिरुवनंतपुरम तक और डिब्रूगढ़ से कच्छ तक उड़ान भरेंगे। वायुसेना और नौसेना के हेलीकॉप्टर कोविड रोगियों का इलाज करने वाले अस्पतालों पर फूल- पंखुड़ियों की वर्षा करेंगे। नौसेना और तटरक्षक बल चुनिंदा स्थानों पर समुद्र में एक आकृति का निर्माण करते हुए जहाजों को आगे बढ़ाएंगे। सेना के बैंड कोविड अस्पताल जायेंगे और कोरोना योद्धाओं के प्रति आभार की अभिव्यक्ति के लिए अस्पतालों के बाहर धुन बजाएंगे।

सीडीएस ने सभी पुलिसकर्मियों को धन्यवाद दिया और कहा कि उनके द्वारा असाधारण और वीरतापूर्ण प्रयास किये जा रहे हैं। उनके योगदान और प्रयासों का सम्मान करने के लिए, तीनों सैन्य प्रमुख 3 मई 2020 की सुबह पुलिस मेमोरियल पर माल्यार्पण करेंगे। कांफ्रेंस की समाप्ति से पहले, एक बार फिर से सीडीएस ने डॉक्टरों, नर्सों, अन्य स्वास्थ्यकर्मियों, स्वच्छता कर्मचारियों, पुलिसकर्मियों, मीडियाकर्मियों समेत सभी कोरोना योद्धाओं को और सभी भारतीयों को इस अभूतपूर्व लड़ाई में उल्लेखनीय प्रयास के लिए धन्यवाद दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat