अनिवार्य प्रश्न

लोगों को बचाने के लिए क्या चिकित्सकीय उपाय कर रही है सरकार : जाने पूरी गतिविधि


अनिवार्य प्रश्न । संवाद


मेक इन इंडिया पर भी जोर

घरेलू निर्माताओं की पहचान कर उनकी सहायता करेगी सरकार

पीपीई का घरेलू उत्पादन लगभग शून्य से बढ़कर हुआ 1.87 लाख प्रति दिन

एन-95 मास्क का घरेलू उत्पादन लगभग शून्य से बढ़कर हुआ 2.30 लाख प्रति दिन

एचसीक्यू की घरेलू विनिर्माण क्षमता में लगभग 150 प्रतिशत की हुई वृद्धि

2. 5 करोड़ की मांग की जगह लगभग 16 करोड़ एचसीक्यू टैबलेट दिए गए राज्य और केन्द्र सरकार के संस्थानों और फार्मासिस्ट को


दिल्ली। पीपीई, मास्क, दस्ताने और वेंटीलेटर जैसे आवश्यक चिकित्सा उपकरणों की उपलब्धता उत्पादन, खरीद , आयात और वितरण सुनिश्चित करने के लिए गृह मंत्रालय की ओर से 29 मार्च 2020 को जारी आदेश के तहत अधिकार प्राप्त समूह 3 का गठन किया गया था। समूह की बैठक नियमित रूप से होती रही है और खबर प्रकाशन तक इसकी 24 बैठकें हो चुकी हैं। समूह ने विभिन्न चिकित्सा उपकरणों के निर्माण से संबधित प्रस्तावों की जांच के लिए एक तकनीकी समिति का गठन किया था। जून, 2020 तक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग द्वारा सूचित विभिन्न चिकित्सा उपकरणों की आवश्यकताओं के आधार पर, समिति लगातार मौजूदा निर्माताओं की क्षमताओं का विस्तार करने और विभिन्न चिकित्सा उपकरणों के नए निर्माताओं की पहचान करने पर विचार कर रही है। समिति की ओर से कच्चे माल, पुर्जों, यात्रा और रसद के मामले में घरेलू निर्माताओं द्वारा जिन विभिन्न बाधाओं का सामना किया जा रहा है उसको हल करने की भी सुविधा प्रदान की जा रही है।

वर्तमान महामारी के दौर में चिकित्सा आपूर्ति के लिए बहुत अधिक वैश्विक मांग, पर्याप्त घरेलू क्षमताओं की कमी और अधिकांश आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति का बड़े पैमाने पर आयात प्रमुख चुनौतियां रहीं। सरकार घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा दे रही है और केवल अत्याधिक आवश्यक स्थितियों में समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए आयात का सहारा लिया जा रहा है। अधिकारियों, वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की टीमें राष्ट्रीय आपात के इस समय में एक साथ चैबीस घंटे काम कर रही हैं।

वेंटिलेटर

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने जून, 2020 तक 75,000 वेंटिलेटरों की अनुमानित मांग आने का संकेत दिया है। इस मांग की तुलना में, वर्तमान में वेटिलेटरों की उपलब्धता लगभग 19,398 मात्र है। मंत्री समूह की पहल पर 60,884 वेंटिलेटर बनाने का आर्डर मैसर्स एचएलएल लाइफकेयर लिमिटेड को दिया गया है जो स्वास्थ्य मंत्रालय का ही एक सार्वजनिक उपक्रम है। मंत्री समूह की पहल पर 60,884 वेंटिलेटर बनाने का आर्डर मैसर्स एचएलएल लाइफकेयर लिमिटेड को दिया गया है जो स्वास्थ्य मंत्रालय का ही एक सार्वजनिक उपक्रम है। दिए गए कुल आर्डर में से 59,884 वेंटिलेटर का आर्डर घरेलू निर्माताओं को दिया गया है। जबकि 1000 वेंटिलेटर आयात किए जाएंगे। प्रस्तावित मांग और आदेशों में राज्य सरकारों की आवश्यकताएं भी शामिल हैं।

मेक इन इंडिया पहल के तहत वेंटिलेटर के स्थानीय निर्माताओं की पहचान की गई है और विशिष्टताओं को पूरा करने और प्रशिक्षण तथा अन्य प्रोटोकॉल को अंतिम रूप देने, नई आपूर्ति श्रृंखला बनाने, आपूर्तिकर्ताओं और राज्य सरकारों के साथ रसद मुद्दों में उनकी मदद करने और फैसला लेने के बारे में मार्गदर्शन किया गया है। स्थानीय निर्माताओं में मैसर्स भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, मैसर्स आगवा और मैसर्स एएमटीजेड जैसी कंपनियां शामिल है जिन्हें क्रमश 30,000000 और 13500 वेटिलेटरों के ऑर्डर दिए गए हैं। घरेलू निर्माता समय पर आपूर्ति कर रहे हैं।

ऑक्सीजन और ऑक्सीजन सिलेंडर

देश ऑक्सीजन और ऑक्सीजन सिलेंडर के मामले में आत्मनिर्भर है। देश में ऑक्सीजन की कुल विनिर्माण क्षमता 6,400 मीट्रिक टन है, जिसका लगभग 1000 मीट्रिक टन मेडिकल क्षेत्र के लिए उपयोग किया जाता है। देश में ऑक्सीजन के 5 बड़े और 600 छोटे निर्माता हैं। लगभग 409 अस्पतालों में अपनी ऑक्सीजन बनाने वाली इकाइया हैं त​था देश में लगभग 1050 क्रायोजेनिक टैंकर हैं।

लगभग 4.38 लाख मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर आपूर्ति के लिए उपलब्ध हैं। इसके अलावा, 1.03 लाख नए मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर के ऑर्डर दिए गए हैं। यदि आवश्यक हो तो रूपांतरण के लिए पांच लाख औद्योगिक ऑक्सीजन सिलेंडर भी चिह्नित किए गए हैं। इसके अलावा, 60,000 सिलेंडरों के रूपांतरण के आदेश पहले ही जारी किए जा चुके हैं।

व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई)

जून, 2020 तक कुल 2.01 करोड़ रुपये के पीपीई किटों की मांग होने का अनुमान लगाया गया है। इस मांग के अनुसार 2.22 करोड़ रूपए के पीपीई​ किटों का आर्डर पहले ही दिया जा चुका हैं, जिनमें से 1.42 करोड़ के आदेश घरेलू निर्माताओं को दिए गए हैं जबकि 80 लाख आयात किए जा रहे हैं।

इससे पहले, देश में पीपीई का कोई घरेलू विनिर्माण नहीं था और लगभग सभी का आयात किया जाता था। थोड़े समय के भीतर, 107 निर्माताओं की पहचान और सुविधा हो गई है, जिन्होंने अपना दैनिक उत्पादन लगभग 1.87 लाख (30.04.2020 तक) बढ़ाया है। अब तक, लगभग 17.37 लाख पीपीई प्राप्त हुए हैं। अगले दो महीनों में अतिरिक्त घरेलू आपूर्ति 1.15 करोड़ से अधिक होगी।

इससे पहले, देश में पीपीई का कोई घरेलू निर्माण नहीं होता था और लगभग सभी का आयात किया जाता था। थोड़े समय के भीतर, 107 निर्माताओं की पहचान कर ली गई और उन्हें बढ़ावा दिया गया जिन्होंने अपना दैनिक उत्पादन लगभग 1.87 लाख (30.04.2020 तक) बढ़ाया है। अब तक, लगभग 17.37 लाख पीपीई प्राप्त हुए हैं। अगले दो महीनों में अतिरिक्त घरेलू आपूर्ति 1.15 करोड़ से अधिक होगी।

सरकारी संस्थान नई तकनीकों, सामग्रियों और परीक्षण सुविधाओं को विकसित करने में सबसे आगे रहे हैं। मौजूदा परीक्षण प्रयोगशाला के अलावा, (दक्षिण भारत वस्त्र अनुसंधान संघ), एसआईटीआरए, कोयंबटूरय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड द्वारा देश भर में 9 नई प्रयोगशालाएँ जोड़ी गई हैं। डीआरडीओ ने घरेलू निर्माताओं को आपूर्ति के लिए नए पीयू कोटेड नायलॉन/पॉलिएस्टर भी विकसित किए हैं।

एन-95 मास्क

जून, 2020 तक 2.72 करोड़ रुपए के एन-95 मास्क की मांग आने का अनुमान लगाया गया है। इस मांग की तुलना में 2.49 करोड़ के ऑर्डर पहले ही दिए जा चुके हैं, जिनमें से 1.49 करोड़ के ऑर्डर घरेलू निर्माताओं को दी गई और लगभग 1 करोड़ एन- 95 मास्क आयात किए जा रहे हैं। देश में चार प्रमुख घरेलू निर्माता हैं और अधिक कतार हैं जिनकी पहचान की गई है। दैनिक घरेलू उत्पादन लगभग 2.30 लाख (30.04.2020 तक) है। अब तक, लगभग 49.12 लाख एन 95 मास्क प्राप्त हुए हैं। अगले दो महीनों में अतिरिक्त घरेलू आपूर्ति 1.40 करोड़ से अधिक होगी। मौजूदा प्रयोगशाला, अर्थात, एसआईटीआरए के अलावा, गुणवत्ता परिषद (क्यूसीआई) के माध्यम से और अधिक प्रयोगशालाएं जोड़ी जा रही हैं।

डायग्नोस्टिक किट

आईसीएमआर की ओर से प्रति दिन लगभग 70,000 परीक्षण किए जा रहे हैं और अब तक 9 लाख से अधिक परीक्षण हो चुका है। परीक्षण सुनिश्चित करने के लिए, किट, सहायक उपकरण, अभिकर्मकों आदि की बैक एंड उपलब्धता महत्वपूर्ण है। केंद्र सरकार ने परीक्षण किट आदि के साथ राज्य सरकारों की सहायता करने की जिम्मेदारी ली है, वे भी खरीद करने के लिए स्वतंत्र हैं, और कुछ राज्य सरकार भी उनसे खरीदने की कोशिश कर रही हैं।

डीएचआर ने 35 लाख के रूप में मैनुअल आरटी-पीसीआर किट की आवश्यकता का आकलन किया है, जिसके लिए जांच, प्राइमर और मास्टरमिक्स का आदेश दिया गया है। आज तक, लगभग 16.4 लाख परीक्षणों के लिए सामग्री प्राप्त हुई है। 35 लाख कंबाइंड आरटी-पीसीआर किट की मांग के खिलाफ, 19 लाख किट का ऑर्डर दिया गया है, जिसमें से 2 लाख किट के ऑर्डर घरेलू निर्माताओं को दिए गए हैं। खबर प्रकाशन तक कुल 13.75 लाख संयुक्त आरटी-पीसीआर किट प्राप्त हुए हैं। इसके अलावा, डीएचआर ने रोश के COBAS परीक्षण किट के 2 लाख परीक्षण का आदेश दिया है, जिनमें से 60,000 किट प्राप्त हुए हैं।

ड्रग्स और अन्य चिकित्सा उपकरण

निरंतर आधार पर दवाओं और चिकित्सा उपकरणों के उत्पादन और आपूर्ति पर नजर रखने के लिए, फार्मास्युटिकल विभाग (डीओपी) और राष्ट्रीय औषधी मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) में दो नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं। सरकार निर्माताओं, वितरकों और फार्मासिस्टों के साथ निरंतर संपर्क में है। राज्य सरकारें भी उद्योग की निगरानी और उनके लिए सुविधाएं बना रही हैं। हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टैबलेट का त्पादन 12.23 करोड़ से बढ़कर 30 करोड़ प्रति माह हो गया है। देश ने केंद्र और राज्य संस्थानों के साथ-साथ लगभग 2.5 करोड़ की आवश्यकता की पूर्ति के लिए एचसीक्यू की लगभग 16 करोड़ टैबलेट जारी की है।

अन्य मंत्रालयों विभागों की भूमिका

कपड़ा, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, डीपीआईआईटी, विदेश मंत्रालय, डीआरडीओ और आईसीएमआर मंत्रीसमूह-3 का हिस्सा हैं और इन सबने इसके कामकाज में काफी सहयोग किया है। इसके अलावा विदेश मंत्रालय ने भारतीय निर्माताओं के लिए आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति और स्पेयर पार्ट्स के आयात की पहचान और खरीद में निरंतर सहायता की है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने कार्गो-एयर ब्रिज और लाइफलाइन उड़ान परियोजनाओं के माध्यम से घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दवाओं और चिकित्सा उपकरणों और उनके स्पेयर पार्ट्स आदि पहुंचाने में मदद की है। बंदरगाहो, सीमा शुल्क विभाग, रेलवे और डाक विभाग के अधिकारियों तेजी से चिकित्सा उपकरणों के वितरण को सुनिश्चित करने में काफी मदद की है। राज्य सरकारें भी इन प्रयासों में सक्रिय योगदान दे रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat