अनिवार्य प्रश्न

संग्रहालय एवं सांस्‍कृतिक स्‍थल विकास ने किया लघु फिल्म ‘अ रे ऑफ जीनियस’ के साथ सत्यजीत रे शताब्दी समारोह का शुभारंभ


अनिवार्य प्रश्न । संवाद


संस्कृति मंत्रालय के संग्रहालय एवं सांस्‍कृतिक स्‍थल विकास (डीएमसीएस) ने अभी हाल सत्यजीत रे के शताब्दी समारोह का शुभारंभ करते हुए एक लघु फिल्म ‘अ रे ऑफ जीनियस’ को डिजिटल तरीके से लॉन्‍च किया है। डीएमसीएस के सीईओ श्री राघवेन्‍द्र सिंह ने इस फिल्म को ऑनलाइन रिलीज करते हुए कहा कि यह लघु फिल्म रे की फिल्म निर्माण प्रतिभा के साथ-साथ साहित्य, कला, संगीत और डिजाइन में उनकी दमदार उपलब्धियों को उजागर करती है। जिसमें कोलकाता और मुंबई के पेशेवरों को समाहित किया है। पुरस्कार विजेता निर्देशक अनिरुद्ध रॉय चैधरी और संपादक अर्घ्य कमल मित्रा ने संदीप रे और सोसाइटी फॉर द प्रिजर्वेशन ऑफ सत्यजीत रे आर्काइव्स की मदद से यह फिल्म बनाई है। इस फिल्म में निमई घोष द्वारा ली गई शानदार तस्‍वीरों को भी शामिल किया गया है जो इस महान फिल्‍म निर्माता के तीन दशक के काम को क्रमवार दर्शाती हैं। ये तस्‍वीरें दिल्‍ली आर्ट गैलेरी की मदद से हासिल की गईं।

राघवेन्‍द्र सिंह ने आगे कहा कि, श्सत्यजीत रे पाथेर पांचाली, चारुलता, किशोर कन्या, सोनार केला और अपु त्रिलोगी जैसी फिल्मों के माध्यम से हमारी यादों में बसे हैं। पाथेर पांचाली (सड़क का गीत) के साथ भारतीय सिनेमा को विश्व मंच पर लॉन्च किया गया था। संस्कृति मंत्रालय के डेवलपमेंट ऑफ म्‍यूजियम्‍स एंड कल्‍चरल स्‍पेसेज ने चलचित्र निर्देशक, लेखक और चित्रकार के रूप में बहुमुखी प्रतिभा के धनी सत्यजीत रे को श्रद्धांजलि देने के लिए ‘अ रे ऑफ जीनियस’ को प्रस्तुत करते हुए प्रसन्‍नता व्‍यक्‍त की है। उन्‍होंने कहा, ‘हम इस स्क्रीनिंग के साथ ही सत्यजीत रे के जन्म शताब्दी समारोह का शुभारंभ करेंगे।’

इस अवसर पर डीएमसीएस का एक आधिकारिक फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल भी लॉन्च किया गया, जो सत्यजीत रे के शताब्दी समारोह के दौरान अन्य गतिविधियों को प्रदर्शित करेंगे। दर्शक निम्नलिखित लिंक पर लॉग इन करते हुए उन्‍हें देख सकते हैं और लाइक एवं फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat