अनिवार्य प्रश्न
Prime Minister addresses International Bharti Festival 2020

प्रधानमंत्री ने किया अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव 2020 को संबोधित


अनिवार्य प्रश्न। संवाद


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव 2020 को संबोधित किया और भरतियार को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। महाकवि सुब्रमण्यम भारती की 138वीं जयंती मनाने के लिए वनविल सांस्कृतिक केंद्र द्वारा उत्सव का आयोजन किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने इस वर्ष के लिए भारती पुरस्कार प्राप्त करने वाले विद्वान श्री सीनी विश्वनाथन को बधाई दी, जिन्हें इस कार्यक्रम के दौरान पुरस्कार प्रदान किया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सुब्रमण्यम भारती का वर्णन करना बहुत कठिन है। श्री मोदी ने कहा कि भरतियार को किसी एक पेशे या आयाम से नहीं जोड़ा जा सकता है। वे कवि, लेखक, संपादक, पत्रकार, समाज सुधारक, स्वतंत्रता सेनानी, मानवतावादी और बहुत कुछ थे।

प्रधानमंत्री ने टिप्पणी की कि कोई भी महान कवि, अपनी कविताओं, दर्शन और अपने जीवन के कार्य के रूप में चमत्कार कर सकता है। श्री मोदी ने वाराणसी के साथ महाकवि की निकटता को याद किया। भारती की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 39 साल के छोटे से जीवन में उन्होंने बहुत कुछ लिखा, बहुत कुछ किया और इतने में उत्कृष्टता प्राप्त की। उनका लेखन एक गौरवशाली भविष्य की ओर हमारा मार्गदर्शन करता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि महाकवि भरतियार की प्रगति की परिभाषा में महिलाओं की केंद्रीय भूमिका थी। उनकी सबसे महत्वपूर्ण दृष्टि स्वतंत्र और सशक्त महिलाओं की थी। महाकवि भरतियार ने लिखा है कि महिलाओं को अपना सिर उठा कर चलना चाहिए, जबकि लोगों को उनकी आंखों में देखना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार इस दृष्टिकोण से प्रेरित है और महिलाओं के नेतृत्व वाले सशक्तिकरण को सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है। श्री मोदी ने कहा कि सरकार के कामकाज के हर क्षेत्र में महिलाओं की गरिमा को महत्व दिया गया है। उन्होंने कहा कि आज, 15 करोड़ से अधिक महिला उद्यमी मुद्रा योजना जैसी योजनाओं से वित्त पोषित हैं। आज स्थायी कमीशन के साथ महिलाएं हमारे सशस्त्र बलों का हिस्सा बन रही हैं। आज, सबसे गरीब महिलाएं जो सुरक्षित स्वच्छता की कमी की समस्याओं का सामना करती थीं, उन्हें 10 करोड़ से अधिक सुरक्षित और स्वच्छ शौचालयों से लाभान्वित किया जाता है। उन्हें और परेशानियों का सामना न करना पड़े। “यह न्यू इंडिया की नारी शक्ति का युग है। वे बाधाओं को तोड़ रही हैं और अपना प्रभाव स्थापित कर रही हैं। यह सुब्रमण्यम भारती की श्रद्धांजलि है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *