Artificial intelligence and digital medicine are the key to future healthcare

भविष्य की स्वास्थ्य सेवा के लिए महत्वपूर्ण हैं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डिजिटल मेडिसिन


अनिवार्य प्रश्न। संवाद।


नई दिल्ली। केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन,  परमाणु ऊर्जा तथा अंतरिक्ष राज्यमंत्री डॉ; जितेंद्र सिंह ने आज कहा कि भविष्य की स्वास्थ्य देखभाल के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और डिजिटल मेडिसिन महत्वपूर्ण हैं।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स)  जम्मू में आगामी नए ब्लॉकों का निरीक्षण और हाल ही में विकसित सुविधाओं का उद्घाटन करने के लिए संस्थान के दौरे पर डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि संस्थान की एक विशिष्ट पहचान विकसित करने के लिए भविष्य के इन क्षेत्रों पर ध्यान दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि टेली-मेडिसिन और रोबोटिक सर्जरी  पहले ही बड़े पैमाने उपयोग में है और इन नए विकल्पों की अपरिहार्य उपयोगिता महामारी के समय में महसूस की गई थी। डॉ. जितेंद्र सिंह ने बताया कि एम्स,  जम्मू में ओपीडी सेवाएं तुरंत शुरू हो जाएंगी और पहला बैच इस साल पहली जून से परिसर से संचालित होगा और उसके बाद दूसरा बैच जारी रहेगा। मंत्री ने कहा कि 30 सदस्य फैकल्टी को पहले ही शामिल किया जा चुका है और अगले साल की शुरुआत तक पूरा छह मंजिला एम्स भवन बनकर तैयार हो जाएगा।

डॉ. जितेन्‍द्र सिंह ने घोषणा की कि एम्स जम्मू सीएसआईआर- आईआईआईएम जम्मू के साथ मिलकर काम करेगा। दोनों संस्थानों की ओर से निदेशक एम्स, जम्मू डॉ. शक्ति गुप्ता और निदेशक सीएसआईआर- आईआईआईएम जम्मू डॉ. डी. श्रीनिवास रेड्डी के बीच मंत्री की उपस्थिति में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

इस अवसर पर डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि विडंबना है कि सीएसआईआर-आईआईआईएम, जम्मू और गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, जम्मू एक-दूसरे से लगभग 4  किलोमीटर की दूरी पर मौजूद हैं और भले ही दोनों संस्थान चिकित्सा अनुसंधान के लिए समर्पित थे, फिर भी अतीत में दोनों के बीच शायद ही कोई सहयोग हुआ हो। उन्होंने कहा कि आईआईआईएम को जीएमसी के साथ एवं आईआईआईएम जम्मू और एम्स, जम्मू के बीच गहन एकीकरण स्थापित करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा। ये दोनों केंद्र सरकार के संस्थान हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.