अनिवार्य प्रश्न
Brother of a minister of Uttar Pradesh found appointment due to corruption, later resigns

उत्तर प्रदेश के एक मंत्री के भाई ने भ्रष्टाचार से पाई नियुक्ति, बाद में दिया इस्तीफा


अनिवार्य प्रश्न। कार्यालय संवाद


उत्तर प्रदेश सरकार में बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ सतीश द्विवेदी के एक भाई द्वारा भ्रष्टाचार किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। उनके भाई अरुण द्विवेदी ने अनियमितता कर सिद्धार्थ विश्वविद्यालय में असिस्टेन्ट प्रोफेसर पद पर नियुक्ति पाली थी। विगत दिनों अरुण के नौकरी पा लेने के बाद सोशल मीडिया पर उठे विवाद में उसे शर्मिंदा होना पड़ा है।

शिक्षा विभाग से जुड़े सूत्रों के हवाले से जानकारी प्राप्त हुई है कि सिद्धार्थ ने निजी कारणों का हवाला देते हुए असिस्टेंट प्रोफेसर पद से इस्तीफा दे दिया है। सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सुरेंद्र दुबे ने उस का इस्तीफा स्वीकार भी कर लिया है। उल्लेखनीय है कि अरुण अरुण द्विवेदी ने सिद्धार्थ विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर 21 मई को पद ग्रहण किया था। लोगों में जैसे ही जानकारी फैली कि वह उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी का भाई है और ईडब्ल्यूएस कोटा के अंतर्गत नियुक्ति पा लिया है तो उसके खिलाफ सोशलपोस्ट वायरल होने लगे।

उसपर आरोप लगा कि मंत्री सतीश द्विवेदी ने गलत ढंग से गरीबों के कोटे से नियुक्ति दिलाई है। इसपर राजभवन से आख्या की मांग पर सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के प्रशासन से जुड़े लोगों के रोंगटे खड़े हो गए। कुलपति प्रोफेसर सुरेंद्र दुबे का कहना था कि मुख्यालय से मांगी गई जानकारी को हमने उपलब्ध करा दिया है। और अरुण के प्रमाण पत्रों से जुड़ी जांच की जा रही है जो एक महीने के अंदर मुख्यालय को प्रेषित कर दी जाएगी। हालांकि अन्य सूत्रों से जानकारी मिली है कि उनकी पत्नी डॉ विदुषी दीक्षित मोतिहारी बिहार के एमएस कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं, वह 2017 से कार्यरत हैं। मनोविज्ञान की प्रोफेसर डॉ विदुषी दीक्षित की तनख्वाह 70000 के आसपास बताई जा रही है।

पाठकों को जानना चाहिए कि अरुण द्विवेदी का ईडब्ल्यूएस कोटे का प्रमाण पत्र 2019 में जारी हुआ था, जिसके अंतर्गत उक्त पद पर नियुक्ति की गई थी। इस संबंध में स्थानीय जिलाधिकारी दीपक मीणा का कहना है कि बना हुआ ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र मार्च 2020 तक वैलिड था। हांलाकि उन्हें इस बारे में विशेष जानकारी नहीं है आगे की जांच करके मीडिया को बताया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *