First attempt of 'Udaan', self-styled poet conference concluded

‘उड़ान’ का प्रथम प्रयास, स्वयंभू कवि सम्मेलन संपन्न


अनिवार्य प्रश्न। संवाद।


इन्दौर। संस्था विद्यांजलि भारत मंच के प्रकल्प (उड़ान एक पहल) में शामिल पंजीकृत नवांकुर कवियों के रूप में पुष्पेंद्र पटेल पुष्प पीथमपुर, स्वाति सिंह साहिबा महेश्वर, यश कौशल महू, श्याम बैरागी इंदौर, अंशुक द्विवेदी रंगहीन इंदौर, अतुल दवे जी इंदौर आदि शामिल हुए एवं संस्था द्वारा मानदेय व सम्मानपत्र देकर सभी कवियों का सम्मान किया गया। उक्त आयोजन में उपस्थित सभी श्रोता कवियों को भी काव्यपाठ का पर्याप्त अवसर मिला! संचालन प्रिय भैया सुनील सिपाही जी ने किया एवं भाई संचित मिश्रा, भाई विकास शुक्ला, भाई आशीष पंवार, भैया तपन दुबे, भैया राहुल मिश्रा, भैया राहुल बजरंगी, भैया संजय बेज़ार, बहन आरती पंवार का विशेष सहयोग रहा।

आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में पधारे संस्था संरक्षक डॉ आर के बघेरवाल द्वारा युवाओं को आशीर्वचन के रूप में उद्बोधन दिया गया एवं विशेष अतिथि चर्चित युवा कवि गौरव साक्षी द्वारा युवाओ को साहित्य के क्षेत्र में आगे बढ़ने हेतु वक्तव्य देकर मार्गदर्शित किया गया। संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष दामोदर विरमाल एवं इंदौर जिला समन्वयक जितेंद्र शिवहरे द्वारा सभी आमंत्रित अतिथियों का पुष्पगुच्छ से स्वागत एवं सत्कार किया गया और आयोजन के मध्य इंदौर शहर की तीन विभूतियों को ‘महारथी सम्मान 2022’ साहित्य सेवा हेतु चर्चित युवा कवि श्री गौरव साक्षी, समाज सेवा हेतु युवा समाजसेवी जय दुबे को देकर सम्मानित किया गया।

संस्था द्वारा अब प्रतिमाह स्वयंभू कवि सम्मेलन आयोजित किया जायेगा जिसके लिए देशभर से सभी रचनाकारों की प्रविष्ठियां गूगल फॉर्म के माध्यम से आमंत्रित की जा रही है। घरों में छिपी प्रतिभाओं को स्वतंत्र मंच और सम्मान के साथ उन्हें प्रभावी प्रस्तुतिकरण हेतु तैयार करना, आर्थिक रूप से सहयोग करना और आज के समय में हो रहे युवा रचनाकारों के साथ शोषण को खत्म करना ही संस्था का मुख्य उद्देश्य है।