अनिवार्य प्रश्न
A new type of case of Kovid-19 came to light in Varanasi

वाराणसी में प्रकाश में आया कोविड-19 का नये तरह का मामला


अनिवार्य प्रश्न। ब्यूरो संवाद


वाराणसी। कोविड-19 विश्व में एक बड़ी महामारी का रूप ले चुका है। इससे पूरे विश्व का बहुत नुकसान हुआ है। इसके किस नए प्रकार व प्रभाव का समाचार कब सामने आ जाए यह कहना मुश्किल हो गया है। हर समाचार से पाठक चैक जा रहें हैं। वाराणसी के बीएचयू स्थित सर सुंदरलाल चिकित्सालय में दुनिया का अब तक का पहला मामला संज्ञान में आया है। जिसमें मां की रिपोर्ट नेगेटिव व नवजात जन्मे शिशु की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

सर सुंदरलाल चिकित्सालय के डॉक्टर इस घटना को लेकर पशोपेश में हैं। अक्सर ऐसे केस में देखा जाता है कि मां अगर पॉजिटिव है तो ही बच्चा पॉजिटिव हो सकता है। मां की रिपोर्ट नेगेटिव है तो बच्चे को भी नेगेटिव जन्म लेना चाहिए। लेकिन यहां केस एकदम अलग और भिन्न है। बच्ची को जन्म देने वाली प्रसूता मां की जांच रिपोर्ट नेगेटिव है और नवजात बच्चे की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

उक्त घटना लंका स्थित सर सुंदरलाल चिकित्सालय की है जहां अनिल कुमार की पत्नी सुप्रिया प्रजापति गर्भवती थी और उसका इलाज चल रहा था। 25 मई 2021 को उसे ऑपरेशन से एक बेटी हुई। प्रसूता सुप्रिया प्रजापति की कोविड-19 की जांच प्रसव से पूर्व की गई थी, उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। लेकिन जब पुत्री का जन्म हुआ और उसकी कोविड की जांच की गई तो नवजात बच्ची पाॅजीटिव पाई गई।

अनिल कुमार ने मीडिया को बताया है कि बच्ची को उसे दिखाने के पश्चात माता-पिता को दिया नहीं गया और उसका कोविड-19 के लिए सैंपल भेज दिया गया। तत्पश्चात बताया गया कि आपकी बेटी को कारोना है। इस घटना से अनिल का पूरा परिवार सद्में में है और बीएचयू चिकित्सालय प्रशासन इस घटना को लेकर असमंजस में बना हुआ है। हालांकि सर सुंदरलाल चिकित्सालय के चिकित्सा प्रमुख डॉ बीबी सिंह का कहना है कि ऐसी स्थिति में पेशेंट व उसकी नवजात बच्ची की दोबारा कोविड जांच की जाएगी। उसके बाद ही स्पष्ट कहा जा सकता है कि दोनों की अन्तिम सही रिपोर्ट क्या है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *