अनिवार्य प्रश्न
An MLA accused of corruption and using muscle power in the election of Gandhian organization

एक विधायक पर गांधीवादी संगठन के निर्वाचन में भ्रष्टाचार व बाहुबल प्रयोग करने का आरोप


अनिवार्य प्रश्न। ब्यूरो संवाद


वाराणसी। चन्दौली के एक बाहुबली विधायक पर गांधीजी की एक संस्था पर कब्जे की कोशिश का आरोप लगाया जा रहा है। यह आरोप उत्तर प्रदेश गांधी स्मारक निधि के बोर्ड के सदस्यों ने लगाया है। उनके अनुसार आज 30 जून 2021 को खादी ग्रामोद्योग आयोग तेलियाबाग वाराणसी के प्रबन्ध समिति के चुनाव में सैयदराजा चंदौली के बाहुबली विधायक स्वयं अपने गुर्गो के साथ पहुंचे थे। और बनारस में खादी ग्रामोद्योग आयोग तेलियाबाग में धमकी देते हुए पूरे समय मौजूद रहे।

ज्ञात हो कि आज उत्तर प्रदेश गांधी स्मारक निधि के बोर्ड के सदस्यों को अपने अध्यक्ष का चुनाव करना था। विगत समय अजय शेखर और आशा नामक दो उम्मीदवारों ने पर्चा दाखिल किया था। संस्था के वर्तमान पदाधिकारीयों का आरोप है कि सत्ताधारी विधायक बोर्ड के मेम्बरों सहित प्रसाशन को धमकी दे कर एवं निर्णायकों को दबाव में लेकर एक पक्षीय घोषणा करवा दिये।

संस्था की नियमावली के विपरीत व कोर्ट के आदेश के विरुद्ध जा कर यह घोषणा की गई। और एक विशेष पक्ष के साथ भ्रष्ट प्रसाशन भी खड़ा हो गया। घटना में आरोप के अनुसार सारे नियमों के विपरीत जा कर प्रत्याशी शेखर का पर्चा बिना उनकी बात कहने का अवसर दिए खारिज कर दिया गया। प्राविधान के विपरीत जल्दबाजी में दोपहर के तीन बजे ही दूसरी उम्मीदवार आशा को अध्यक्ष घोषित कर दिया गया। जबकि घोषित तौर पर चुनाव का परिणाम शाम पांच बजे से पहले घोषित नही होना चाहिए था।

जिसके बाद एक पक्ष का मनोबल बढ़ गया और वह संस्था की गाड़ी जबरन छीनने का प्रयास किये। असंतुष्ट गुट का कहना है कि इतना ही नहीं वे बुजुर्ग गांधीवादी और महिला सदस्यों के साथ दुर्व्यवहार भी करने लगे। चुनाव के दौरान पूरे दिन गाँधी विचार के अनुरूप वरिष्ठ गाँधीजनों ने संस्था के बोर्ड सदस्यों के साथ बैठ कर मामला सुलह और सर्वसम्मति से हल करने की भी कोशिश किये। दोनों पक्षों के बीच चर्चा चल ही रही थी कि बाहुबली विधायक के प्रभाव में परिणाम एकतरफा घोषित कर दिया गया।

सर्व सेवा संघ राजघाट में इस जबरदस्ती के खिलाफ गांधीवादी जनों और संस्था के हितैषी नागरिक संगठनों की एक मीटिंग में यह निर्णय लिया गया कि सरकार और प्रसाशन के साथ गाँधीविचार की संस्थाओं के खिलाफ बाहुबल के इस प्रयोग और दखलंदाजी के विरुद्ध सत्याग्रह किया जाएगा। साथ ही अदालत में भी मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। संगठनों की उक्त बैठक में विनय राय, संजीव सिंह, जागृति राही, अरविंद अंजुम, रामधीरज, अजय शेखर, शुभा, डॉ अनूप श्रमिक एवं धनन्जय राय आदि शामिल रहे। संगठन से जुड़े व असंतुष्ट गुट के रामधीरज ने अनिवार्य प्रश्न संवाददाता से उक्त आरोपों की पुष्टि की है। खबर लिखे जाने तक संबंधित विधायक की प्रतिक्रिया नहीं आ सकी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *