अनिवार्य प्रश्न
Caravan is a better platform for every youth associated with every art

प्रत्येक कला से जुड़े हर युवा के लिए बेहतर प्लेटफार्म है कारवां


अनिवार्य प्रश्न। व्यूरो संवाद


वाराणसी। सनफ्लावर वुमेन एंड चिल्ड्रन वेलफेयर सोसाइटी के तत्वाधान में चलाये जा रहे कारवां के प्रथम सेशन में युवाओं ने बढ़-चढ़कर प्रतिभाग किया। इस कार्यक्रम में कला के हर क्षेत्र से जिसमें संगीत, गायन, वादन, अभिनय, कथा व काव्य लेखन जैसे प्रमुख विधाओं में काशी एवं काशी के बाहर से भी अनेक युवा प्रतिभाओं ने हिस्सा लिया।

संस्था के अनुसार कारवां के इस प्रथम भाग में लगभग 50 प्रतिभागियों ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। जिसमें कुछ ने गिटार, तबला, बांसुरी, कहानी व कविता के माध्यम से अपने ज्ञान व अपने कौशल की प्रस्तुति दी। 6 घंटे तक चलने वाले इस मैराथन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि संत अतुलानंद रेजिडेंशियल अकैडमी की प्रबंध निदेशिका डॉ दिव्या सिंह रही। डॉ सिंह ने कार्यक्रम का दीप प्रज्वलित कर प्रारंभ किया। विशिष्ट अतिथि के तौर पर युवाओं को प्रेरणा देने के लिए रेडियो मिर्ची के आरजे अंकित व अभिनव रहे। साथ ही अतिथियों में अनिवार्य प्रश्न व स्याही प्रकाशन के प्रधान संपादक छतिश द्विवेदी ‘कुंठित’, ‘उदगार’ संस्था के वर्तमान अध्यक्ष योगेंद्र नारायण चतुर्वेदी वियोगी, उपाध्यक्ष डॉक्टर लियाकत अली, डॉक्टर रोहित पांडेय, व पत्रकार और कवि संतोष कुमार प्रीत आदि गणमान्य मौजूद रहे।

कार्यक्रम में जिन लोगों को सम्मानित किया गया उनमें प्रतिभाागियों के अलावा संत अतुल आनंद के प्रधानाचार्य अविनाश पांडेय व काशीवार्ता के उपसंपादक आलोक श्रीवास्तव प्रमुख रहे। सभा के अंत में सभी प्रतिभागियों को स्मृति चिन्ह व सराहना पत्र भेंट किया गया। संस्थापिका व समाज सेविका नीलिमा श्रीवास्तव ने कारवां को निरंतर आगे बढ़ने की शुभकामना देते हुए अपने सभी साथियों, संचालकों, सहयोगियों एवं अतिथियों का आभार जताया। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यह कारवां हर कला से जुड़े युवा के लिए उसकी प्रतिभा को समाज तक ले आने व समाज से परिचित कराने के लिए प्रमुख माध्यम बनेगा।

उल्लेखनीय है किस शहर में आयोजित ओपन माइक कार्यक्रमों में कारवां सबसे विशेष इसलिए रहा क्योंकि इसके प्रतिभागियों की संख्या कई दर्जनों थी और इस कार्यक्रम में साहित्य व पत्रकारिता क्षेत्र के मूर्धन्य विद्वान सम्मिलित हुए। ऐसा कम ही होता है जब युवाओं के कार्यक्रम में साहित्य व पत्रकारिता के नामचीन लोग शामिल हो पाते हैं। यह सब नीलिमा श्रीवास्तव के कुशल संयोजन में ही संभव हो पाया है। प्रबंधन ने बताया है कि आगे भी कारवां के अन्य सेशन आयोजित किए जाते रहेंगे। सहसंयोजिका कृति श्रीवास्तव व अनुराग यादव ने बताया कि शीघ्र ही कारवां के सेशन: 2 का आयोजन किया जाएगा। उसके लिए नामांकन प्रारंभ होने पर सबको सार्वजनिक रुप से सूचना दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *