अनिवार्य प्रश्न

मदिरापान के होते हैं व्यापक दुष्परिणाम

मदिरापान के होते हैं व्यापक दुष्परिणाम अपने वैज्ञानिक व तर्कपूर्ण विवेचना से शराब सेवन करने वालों के जीवन पर पड़ने वाले भयानक नकारात्मक प्रभावों का सुन्दर शाब्दिक रेखांकन कर रहे … Read More

राजभाषा हिंदी में मौलिक पुस्तक लेखन हेतु राजभाषा गौरव पुरस्कार योजना-वर्ष 2020 के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित

अनिवार्य प्रश्न। संवाद नई दिल्ली| राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय द्वारा हिंदी में मौलिक पुस्तक लेखन के लिए चलाई जा रही निम्नलिखित पुरस्कार योजनाओं के लिए 01.01.2020 से 31.12.2020 के दौरान … Read More

महात्मा गांधी और नया भारत: सलिल सरोज

महात्मा गांधी की भूमिका और प्रभाव को निर्विवाद मानते हुए उनके विचारों को वर्तमान परिप्रेक्ष्य में बेहत प्रासंगिक व अचूक मान रहे हैं वरिष्ठ लेखक व कवि सलिल सरोज। न्यू … Read More

असंगठित किसानों के प्रति सभी सरकारों की उदासीनता : सलिल सरोज

असंगठित क्षेत्र के किसानों के जीवन में व्याप्त कठिनाइयां एवं उनके जीवन से जुड़ी चुनौतियों पर प्रकाश डालते हुए किसानों के प्रति भारतीय सरकारों की उदासीनता को रेखांकित कर रहे … Read More

हम किसी और के संसार में रहने लगे हैं…. गांधी विचारक धर्मपाल

धर्मपाल जी विख्यात चिंतक एवं गांधी विचारक हैं। प्रस्तुत है उनका लिखा एक आलेख… भारतीय मानस में सृष्टि के विकास के क्रम और उसमें मानवीय प्रयत्न और मानवीय ज्ञान-विज्ञान के … Read More

श्रद्धांजलि संस्मरण: मेरे मित्र सजल की याद में लिखते हुए कलम रोने लगी है… महेन्द्र नाथ तिवारी ‘अलंकार’

श्रद्धांजलि संस्मरण अनिवार्य प्रश्न अखबार समूह व उद्गार परिवार से वर्षों से जुड़े रहे वरिष्ठ कवि व लेखक श्री राधेश्याम तिवारी ‘सजल’ विगत 04 सितम्बर 2020 को काशी के साहित्य … Read More

लम्बा संघर्ष और अगणित बलिदान के बाद अयोध्या में बस पाए श्रीराम

भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण के लम्बे संघर्ष, उसके धार्मिक व सामाजिक महत्ता और उसके शिलान्यास में प्रयुक्त हर ईंट में भरे भावसिक्त संदेश को समझा रहे हैं नोएडा के … Read More

34 सालों बाद बदली शिक्षा की सूरत

नई शिक्षा नीति अंग्रेजी के साथ मातृभाषा के अलावा संस्कृत व देश की अन्य भाषाओं के सीखने पर जोर देने वाली है ऐसा मानते हुए विश्लेषण कर रहे हैं लेखक … Read More

मुंशी प्रेमचंद के 140 वें जन्मदिवस के अवसर त्रिदिवसीय चित्रकला प्रतियोगिता का हुआ आयोजन

अनिवार्य प्रश्न । ब्यूरो संवाद वाराणसी। कहानी सम्राट मुंशी प्रेमचंद जी के 140 वें जन्मदिवस के अवसर पर महापंडित राहुल सांकृत्यायन शोध एवं अध्ययन केंद्र वाराणसी द्वारा उनके प्रसिद्ध उपन्यास … Read More

‘गोदान’ का सामाजिक विस्तार : विन्ध्यवासिनी मिश्रा

’गोदान’ का सामाजिक विस्तार औपनिवेशिक भारत में तमाम आर्थिक सामाजिक शैक्षिक असमानताओं या यूँ कहें कि अनेक असंतुलनों के काल में महान उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद जी के लेखन की पराकाष्ठात्मक … Read More