आलेख : बाबू जगत सिंह ने की थी ब्रितानी हुकूमत के खिलाफ पहली बगावत

आलेख 1799 में काशी के बाबू जगत सिंह के नेतृत्व में हुई थी अग्रेजों के खिलाफ पहली जन क्रन्ति आज भी ब्रिटिश लाइब्रेरी के दस्तावेजों दर्ज है यह जनक्रान्ति द … Read More

काव्य पुस्तक ‘गीत रसाल’ का भव्य लोकार्पण हुआ संपन्न

  समृद्ध साहित्यिक अतीत से उद्भूत नवीन गीतों का कवि ने किया है मनोहारी अलंकरण – प्रकाशक पण्डित छतिश द्विवेदी ‘कुण्ठित’ हिंदी साहित्य के लिये ‘गीत रसाल’ रस और छंदों … Read More

इस बार बसंत को प्रभु श्रीराम की अगवानी के लिए पौष में ही आना होगा – डॉ. चन्द्र भाल ‘सुकुमार’

स्तम्भ: ‘डायरी लिखनी है’: भाग एक रोज रात को सोने से पहले डायरी लिखने की मेरी पुरानी आदत है। कभी भूल भी जाता हूँ तो धर्मपत्नी याद दिला देती हैं। … Read More

वर्तमान खराब सामाजिक स्थिति का जिम्मेदार कौन है ? – डॉ. राकेश कुमार

स्वास्थ्य आलेख जब हमारे देश में मुसलमान आए तो उन्होंने धर्म परिवर्तन कराया। धर्म परिवर्तन के लिए उनकी शर्त थी कलमा पढ़ो और मांस खाओ। उस समय हमारे सभी पूर्वज … Read More

कोयले रहित भूमि पर जीवन, एक इकोसिस्टम आधारित दृष्टिकोण

उद्गार आलेख/दृष्टिकोण देश की ऊर्जा संबंधी बढ़ती मांगों को पूरा करने और पर्यावरण संरक्षण के प्रति अटूट प्रतिबद्धता को बनाए रखने के बीच एक नाजुक संतुलन बिठाते हुए, कोयला क्षेत्र टिकाऊ … Read More

पंडित छतिश द्विवेदी ‘कुण्ठित’ द्वारा संपादित आठ पुस्तकों के लोकार्पण के साथ कवियों ने मनाया नववर्षोत्सव

अनिवार्य प्रश्न। ब्यूरो संवाद। कुछ भरकर कुछ रीत गया है धरती पर, जाने क्या-क्या बीत गया है धरती पर: कुण्ठित उद्गार की 91 वीं कवि गोष्ठी संपन्न वाराणसी। साल 2023 … Read More

यदि आप गरीब(अभावग्रस्त) हैं, तो अपना जीवन स्तर कैसे सुधारें? – डॉक्टर डी आर विश्वकर्मा

मित्रों, गरीबी किसी का मान नहीं रखती, यानी गरीबी एक बहुत बड़ा अभिशाप है। गरीब व्यक्ति सदैव अभावों में अपना जीवन गुजारता है,उसके बच्चे अच्छी शिक्षा नही ग्रहण कर पाते, … Read More

सबको वियोग में छोड़ गये वियोगी

अनिवार्य प्रश्न। ब्यूरो संवाद। उद्गार के वियोगी को दी गई भावभींनी विदाई टूट गई वियोगी, विरही एवं कुंठित की ख्यात जोड़ी कवि वियोगी वाराणसी की संस्था ‘उद्गार’ के लगभग 9 … Read More

बौराया बनारस, बेहोश प्रशासन : छतिश द्विवेदी ‘कुंठित’

आलेख। बौराया बनारस, बेहोश प्रशासन : छतिश द्विवेदी ‘कुंठित’ के साथ अनिवार्य प्रश्न फीचर डेस्क। बनारस की शान अपने आप में अनोखी है। यहां का हर आदमी अपने अल्हड़ता के … Read More

ढोंगी तीर्थ पुरोहितों से मुक्ति के लिए चीखते तीर्थ स्थल : छतिश द्विवेदी ‘कुंठित’

आलेख। पूरे भारत में कुछ एक तीर्थ स्थानों को छोड़कर लगभग सभी प्रदेशों के सभी तीर्थ स्थानों पर 80 प्रतिशत तीर्थ पुरोहितों या कहें कथित पंडितों द्वारा जो मायाजाल फैलाया … Read More