अनिवार्य प्रश्न
Opposition over dyeing and painting of Gyanvapi mosque, Hindu organizations outspoken

ज्ञानवापी मस्जिद की रंगाई-पुताई को लेकर विरोध बरकरार, मुखर हुए हिन्दू संगठन


अलिवार्य प्रश्न। ब्यूरो संवाद


वाराणसी। हिन्दू जागरण मंच का एक प्रतिनिधि मंडल जिलाधिकारी से उनके आवास पर मिलकर ज्ञानवापी परिसर में स्थित मस्जिद के मुस्लिम समुदाय द्वारा प्रस्तावित रंगाइ-पुताई व मरम्मत की अनुमति नही दिए जाने की मांग करते हुए प्रार्थना पत्र दिया।

मंच द्वारा जिलाधिकारी से कहा गया कि ज्ञानवापी परिसर भूमि अराजी आबादी बंदोबस्ती नम्बर 9130,9131,,9132 मौजा शहर खास, परगना देहात अमानत तहसील व जिला वाराणसी, मोहल्ला विश्वेश्वर नाथ वार्ड चौक वाराणसी जो सम्पूर्ण ज्ञानवापी परिसर के रूप में विख्यात है, के बीच मे पौराणिक काल से ही स्वयंभू ज्योर्तिलिंग विश्वेश्वर का मंदिर है जो शिव मंदिर है स्थित रहा है। जिसे भगवान विश्वेश्वर के मंदिर के नाम से जानते है और जो भारत मे मुस्लिम आक्रमण के पूर्व का निर्मित व स्थित रहा है।

इस मन्दिर में हिन्दू आस्थावान दर्शन व परिक्रमा करके पूण्य प्राप्त करते हैं । इस स्थान पर ज्ञानवापी स्वयंभू भगवान विश्वेश्वर एवं अन्य देवी देवता जो प्रांगण में स्थित हैं कि महिमा का वर्णन स्कन्ध पुराण के काशी खंड एवं अन्य पुराणों में एवं प्राचीन इतिहास के पुस्तकों में प्राचीन इतिहासवेत्ताओं द्वारा वर्णित किया गया है।

भगवान विश्वेश्वर का मंदिर राजा विक्रमादित्य के द्वारा करीब 2050 वर्ष पूर्व निर्मित कराया गया था एवं भगवान विश्वेश्वर के ज्योतिर्लिंग की पुनर्प्रतिष्ठा एवं जागरण कराया गया था। जिसे औरंगजेब के आदेश से सन 1669 ईसवी में मुस्लिम आक्रांताओं द्वारा तोड़ कर मस्जिद का निर्माण कराया गया। इसके संबंध में माननीय न्यायालय द्रुतगामी सीनियर डिवीजन के न्यायालय में विचाराधीन वाद संख्या 610 सन 1991 स्वयंभू लॉर्ड विश्वेश्वर प्राचीन मूर्ति बनाम अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद व अन्य के वाद में वादी द्वारा पुरातत्व विभाग से सर्वेक्षण कराए जाने हेतु दिये गए प्रार्थना पत्र का निस्तारण अभी होना है।

जागरण मंच का कहना हैं कि इसके पूर्व ही मुस्लिम समुदाय के द्वारा विवादित मस्जिद के अंदर व बाहर हिन्दू मंदिर के अवशेष (प्रतीक चिन्हों) को मिटाने का साजिश कर रहा है। ऐसी स्थिति में मुस्लिम पक्ष को अनुमति नही दी जानी चाहिए।

संगठन के प्रवक्ता ने बताया कि जिलाधिकारी ने लम्बित मुकदमे की पूरी जानकारी ली ततपश्चात उन्होंने मौखिक रूप से यह आस्वाशन दिया कि किसी को भी रंगाई-पुताई व किसी प्रकार के तोड़फोड़ व साक्ष्य मिटाने की अनुमति नही दी जाएगी। विरोध ज्ञापन करने वाले प्रनिधिमण्डल में प्रान्त अध्यक्ष दिनेश नारायण सिंह, महानगर अध्यक्ष अधिवक्ता अवनीश राय, प्रान्त मंत्री गौरीश सिंह, महानगर महामंत्री विकास तिवारी, अनुराग पाण्डेय महानगर के सहसंयोजक समेत हिन्दू जागरण मंच के अनेक कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *