अनिवार्य प्रश्न
Apathy of all governments towards unorganized farmers: Salil Saroj

असंगठित किसानों के प्रति सभी सरकारों की उदासीनता : सलिल सरोज


असंगठित क्षेत्र के किसानों के जीवन में व्याप्त कठिनाइयां एवं उनके जीवन से जुड़ी चुनौतियों पर प्रकाश डालते हुए किसानों के प्रति भारतीय सरकारों की उदासीनता को रेखांकित कर रहे हैं वरिष्ठ लेखक सलिल सरोज


“भारत एक कृषि अर्थव्यवस्था है। कृषि देश की प्रमुख आय का एक स्रोत है, लेकिन यह असंगठित क्षेत्र के लिए उन्मुख है जो देश की मुख्य समस्या है। जिसने उसे गरीबी की जकड़ से उठने से रोक दिया है। असंगठित क्षेत्र होने के नाते, गरीब किसान जीवन जीने की कठोर परिस्थितियों से ग्रस्त हैं, क्योंकि उन्हें 5 एकड़ से कम भूमि में खुद को समायोजित करना पड़ता है। अगर हम सरकार के नजरिए से देखें, तो देश के 80 प्रतिशत से अधिक असिंचित क्षेत्र पर कब्जा है और इस तरह का कोई कानून कभी भी उनकी चिंताओं को दूर करने के लिए नहीं निर्मित किया गया है।

हालांकि, एक बार हमारे पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ‘जय जवान, जय किसान’ के हवाला था, लेकिन किसान जीवन की खतरनाक स्थितियों से जूझ रहे हैं। चाहे वह मौसम की स्थिति या कठोर जैसी प्राकृतिक घटना ही क्यों ना हो। सरकार के कानून चाहे जो भी हों, वे दिन-रात काम करते हैं, जिसके लिए उन्हें इनपुट से भी कम मिलता है। कानून आम तौर पर प्रतिष्ठानों के लिए होते हैं, इसलिए उस किसान के बारे में क्या जो संगठित नहीं है! उनके लिए कानून कहां हैं? उनके लिए लोकतंत्र व समानता कहां है? क्या उन्हें समाज से अलग माना जाता है? ” ऐसे अनेक प्रश्न आज तक खड़े हैं।

राष्ट्रीय उद्यम आयोग असंगठित क्षेत्र को ‘व्यक्तिगत या साझेदारी के आधार पर संचालित माल और सेवाओं की बिक्री या उत्पादन या कुल दस श्रमिकों से कम वाले व्यक्तियों या घरों के स्वामित्व वाले सभी असिंचित निजी उद्यमों से युक्त’ के रूप में परिभाषित करता है। ‘आधुनिक दिनों में भारतीय किसानों की दुर्दशा का मूल कारण इस प्रकार वर्गीकृत किया जा सकता है।’

ऽ नीतियों के कार्यान्वयन में कमी,
ऽ समस्याओं की कोई उचित पहचान नहीं,
ऽ किसानों के बीच असमानता,
ऽ असिंचित क्षेत्र,

एक असंगठित किसान की सबसे भयानक स्थिति यह है कि उनमें से 80 प्रतिशत निम्न और सीमांत मानक के हैं और 5 एकड़ से कम भूमि पर निर्भर हैं। इसके अलावा, काम करने वाले किसान अशिक्षित एवं अनपढ़ हैं और उनके लिए रोजगार के विकल्प भी कम हैं। इस प्रकार, कृषि एक असंगठित क्षेत्र है, खेती, सिंचाई, कटाई, भंडारण, परिवहन और वेयर हाउसिंग में कोई व्यवस्थित योजना नहीं है। बार-बार होने वाली फसल की विफलता, कर्ज की परेशानी, वैकल्पिक स्रोतों की कमी और अत्यधिक ब्याज दर किसान को आत्महत्या करने के लिए प्रेरित करती है। अधिकांश आत्महत्याएं प्राकृतिक आपदाओं के बजाय मानव निर्मित नीतियों का परिणाम होती हैं।

खाद्य, पोषण, स्वास्थ्य, आवास, रोजगार, आय, जीवन और दुर्घटना जैसे असंगठित क्षेत्र की खानपान की जरूरतें और वृद्धावस्था भारत में एक परी कथा सी बनी हुई है। यद्यपि उसे कृषि अर्थव्यवस्था के रूप में माना जाता है, लेकिन कोई भी इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकता है कि यह एक असंगठित कृषि अर्थव्यवस्था है जहां सरकार द्वारा संकट अप्राप्य हो जाता है। जो महिलाएं सार्वजनिक रूप से नहीं खुलती हैं और किसी घर में काम करती हैं, वे पुरुष, ऑटो विक्रेता जैसे कर्मी आदि सभी असंगठित श्रमिक की श्रेणी में आते हैं जो दिन-रात काम करते हैं लेकिन बिखरे हुए और असंगठित होने के कारण उन्हें भाग के रूप में अवहेलना होने की संभावना रहती है। उन्हें अन्य कॉरपोरेट किसान जो औपचारिक क्षेत्र के तहत काम करते हैं, इस प्रकार अनपढ़ होने के नोट पर वे कम वेतन के अधीन होते हैं और यह भी कि चूंकि उन्हें अपने अधिकारों के बारे में जानकारी नहीं होती है। इस प्रकार, समस्याओं को हल करने के लिए, सरकार को निम्नलिखित कार्य करने होंगे-

किसानों को प्रशिक्षित करना-

देश की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए शहरीकरण और बड़े उत्पादन के कारण बेहतर उत्पादकता के लिए इस्तेमाल की जाने वाली तकनीकों के आधुनिक तरीकों के साथ किसानों को प्रशिक्षण प्रदान किया जाना चाहिए और विभिन्न प्रकार के उत्पादों के बारे में जागरूक किया जाना चाहिए। जो बाजार में उपलब्ध है।

ऋण प्रक्रिया को सरल बनाना

चूंकि आम तौर पर किसान अशिक्षित और निरक्षर होते हैं, अतः वे ऋण लेने के लिए बैंक की प्रक्रियाओं का पालन करने में संकोच करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप वे ऋण के लिए जमींदारों से संपर्क करते हैं और वे गरीब किसान की आग्रहपूर्ण जरूरतों को देखते हुए उन्हें उनकी इच्छा के अनुसार और बदले में उन्हें देते हैं। वे आत्महत्या करने के परिणाम से वापस नहीं लौट सके। इसलिए, बैंकों को उन्हें लाभ और औपचारिक प्रक्रिया समझाने के लिए अनुकूल वातावरण प्रदान करना चाहिए।

बिचैलिए की भूमिका को कम से कम-

औपचारिक क्षेत्र हैं जो कृषक और महिला कामगारों आदि को रोजगार दे रहे हैं, इसलिए बिचैलिया पर निर्भर होना चाहिए, जो वैध नहीं है और दूसरा यह गैर-राजनीतिक है जहां परिलक्षित लाभ वास्तविकता नहीं हो सकता है।

ई-बाजार तक पहुंच-

प्रौद्योगिकी में तेजी के कारण और किसानों द्वारा प्राप्त किए जाने वाले तेजी से उपायों के कारण सरकार द्वारा किसानों को आसानी से ऑनलाइन दुनिया भर में विभिन्न उत्पादों की दरों के साथ प्रदान करने के लिए ई-बाजार स्थापित किए गए हैं। ताकि उनके पास यह डेटा हो सके कि किस दर से कितनी कीमत है।


लेखक भारतीय संसद के सचिवालय में कार्यकारी अधिकारी हैं।


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *